ATP Education

ATEducation.com Logo

The Secure way of Learning

   Welcome! Guest

LogIn    Register       

 

Sponser's Link
Sponser's Link

Sponser's Link

Join Us On Facebook
CBSE And NCERT Solutions:

CBSE Notes for Class 12 Microeconomics (व्यष्टि अर्थशास्त्र ) chapter 1. अर्थशास्त्र की केन्द्रीय समस्याएँ in hindi Medium

Select Your Subject: CBSE English Medium

 

CBSE NotesClass 12th Microeconomics (व्यष्टि अर्थशास्त्र ) Chapter 1. अर्थशास्त्र की केन्द्रीय समस्याएँ :
Page 2 of 3

1. अर्थशास्त्र की केन्द्रीय समस्याएँ

 

उत्पादन संभावना वक्र

 

उत्पादन संभावना वक्र (Production posibility curv) - उत्पादन संभावना वक्र दो वस्तुओं के विभिन्न संयोगो (combinations) को प्रकट करता है जिनका उत्पादन दिए हुए संसाधनों द्वारा किया जाता |

उत्पादन संभावना वक्र की मान्यताएं (Assumptions of PPC) -

(i) संसाधनों की एक निश्चित मात्रा दी गई है |

(ii) उपलब्ध संसाधनों का पूर्ण एंव कुशल प्रयोग किया गया है |

(iii) तकनीक में कोई परिवर्तन होता है |

उत्पादन संभावना वक्र की विशेषताएँ (Properties of PPC) -

(i) उत्पादन संभावना वक्र का ढलान नीचे की ओर होता है (PPC slops downward) - उत्पादन संभावना वक्र का ढलान दाएं से बाएँ ऊपर से नीचे की ओर होता है | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि संसाधन स्थिर है तथा दो वस्तुओं के उत्पादन को एक साथ नहीं बढाया जा सकता है | एक वस्तु का उत्पादन बढ़ने के लिए दूसरी वस्तु के उत्पादन को कम करना पड़ेगा | 

(ii) उत्पादन संभावना वक्र का ढलान मूल बिंदु की ओर नतोदर होता है (PPC is concave to the point of origin) - जैसे - जैसे वस्तु x के उत्पादन में वृद्धि की जाती है वस्तु Y का उत्पादन कम होता जाता है जिससे सीमांत अवसर लागत बढती जाती है | अतः सीमांत अवसर लागत के बढ़ने के कारण उत्पादन संभावना वक्र का ढलान मूल बिंदु की ओर नतोदर होता है |

उत्पादन के प्राप्य तथा अप्राप्य संयोग (Attainable and unattainable combinations of output) -

(i) प्राप्य संयोग (Attainable combinations) - उत्पादन संभावना वक्र पर तथा उत्पादन संभावना वक्र के अन्दर उपस्थित सभी बिन्दुओं को प्राप्य संयोग कहते है |

(ii) अप्राप्य संयोग (unattainable combinations) - उत्पादन संभावना वक्र के बाहर उपस्थित सभी बिन्दुओं को अप्राप्य संयोग कहते है | 

अवसर लागत (opportunity cost) - अवसर लागत एक अवसर का लाभ उठाने के लिए दुसरे अवसर की हानि की लागत है |

जैसे - एक व्यक्ति को 20,000, 15,000 तथा 25000 की नौकरी पाने का अवसर मिला | अब एक समझदार व्यक्ति 25,000 की नौकरी का ही चयन करेगा लेकिन उसे 25,000 की नौकरी पाने के लिए दुसरे सबसे अच्छे विकल्प 20,000 की नौकरी को छोड़ना पडेगा | अतः 25,000 की नौकरी पाने की अवसर लागत 20,000 की नौकरी है |

सीमांत अवसर लागत (marginal opportunity cost) - यह वस्तु Y की उस मात्रा को प्रकट करता है जो वह वस्तु X की अतिरिक्त इकाई का उत्पादन करने के लिए अवश्य त्यागता है |

 

 

www.atpeducation.com

www.atpeducation.com

 

 

Advertisement
Page 2 of 3
Download Our Android App
Get it on Google Play
Feed Back

Roshan Class X says:

"6"

Shadab Khan Class X says:

"make fast all science pages geography "

Shivam Bajpai All Class says:

"ये पेज under construction क्युं है .plz fix this prob..."

Krishan Class X says:

"this very good website i really appreciate which provide no cost education to all medium classes"

Vimal Class XI says:

"Not able to find the content....as instructed."

Kamini Class X says:

"every chepter is imcomplete....this side is not useful"

Ashok Swami All Class says:

"10th science ka Lesson-8 ka page no.5 kab take under construction rahega please improve it."

Rishabh Gupta Class XI says:

"how can i understand difference between permutation and combination word problem"

Rishabh Gupta Class XI says:

"i want to learn parts of speech"

KASHIF ALI Class VIII says:

"Please update all the syllabus of class 8"

ATP Education

 

 

Follow us On Google+
Join Us On Facebook
Sponser's Link
Sponser's Link