ATP Education

ATEducation.com Logo

The Secure way of Learning

   Welcome! Guest

LogIn    Register       

 

Sponser's Link
Sponser's Link

Sponser's Link

Join Us On Facebook
CBSE And NCERT Solutions:

CBSE Notes for Class 11 व्यवसाय अध्ययन (Business Study) chapter Chapter 1. व्यवसाय के आधार in hindi Medium

Select Your Subject: CBSE English Medium

 

CBSE NotesClass 11th व्यवसाय अध्ययन (Business Study) Chapter Chapter 1. व्यवसाय के आधार :
Page 3 of 5

Chapter 1. व्यवसाय के आधार

 

वाणिज्य में सम्मिलित क्रियाएँ :

 

वाणिज्य में सम्मिलित क्रियाएँ : 

  1. व्यापार : व्यापार से अभिप्राय उन आर्थिक क्रियाओं से है जो वस्तुओं के बिक्री तथा विनिमय से सम्बंधित है |

 2. व्यापार के सहायक : वे क्रियाएँ जो व्यवसाय में व्यापार की सहायता करती है उन्हें व्यापार के सहायक या व्यापार की सहायक क्रियाएँ कहते है |

व्यापार का वर्गीकरण :    

(क) आंतरिक व्यापार: आंतरिक व्यापार वह व्यापार होता है जिसमें किसी देश की भुगौलिक सीमा के अंदर वस्तुओं का बिक्री तथा विनिमय किया जाता है | आंतरिक व्यापार दो प्रकार के होते है :

  • थोक व्यापार : थोक व्यापार वह व्यापार होता है जिसमे एक ही प्रकार की वस्तुओं का  क्रय-विक्रय तथा विनिमय बड़ी मात्रा में किया जाता है |
  • फुटकर व्यापार : फुटकर व्यापार वह व्यापर होता है जिसमे एक ही प्रकार की वस्तुओं का क्रय-विक्रय तथा विनिमय कम मात्रा में किया जाता है |

(ख) बाह्य व्यापार : बाह्य व्यापार वह व्यापार होता है जो दो या दो से अधिक देशो के बीच किया जाता है | बाह्य व्यापार तीन प्रकार का होता है :

  • आयात व्यापार : आयात व्यापार वह व्यापार होता है जिसमें दूसरे देशो से वस्तुओं को ख़रीदा जाता है उसे आयात व्यापर कहतें है |
  • निर्यात व्यापार : निर्यात व्यापार वह व्यापार होता है जिसमें दूसरे देशो में वस्तुओं को बेचा जाता है उसे निर्यात व्यापर कहतें है |
  • पुनर्निर्यात व्यापार : पुनर्निर्यात व्यापार वह व्यापार होता है जिसमें एक देश से वस्तुओं को खरीद कर उसे दूसरे देश में बेचा जाता है | दूसरे शब्दों में , पुनर्निर्यात व्यापार वह व्यापार होता है जिसमें एक देश से वस्तुओं का आयात कर दूसरे देशो में निर्यात किया जाता है | 

​व्यापार के सहायक : वे क्रियाएँ जो व्यवसाय में व्यापार की सहायता करती है उन्हें व्यापार की सहायक या व्यापार की सहायक क्रियाएँ कहते है | दुसरे शब्दों में वे क्रियाएँ जो व्यवसाय में सहायक की भूमिका निभाती है उन्हें व्यापार की सहायक क्रियाएँ कहतें है | जैसे - परिवहन , बैंकिंग , बीमा , विज्ञापन आदि | 

  • व्यापार की सहायक क्रियाएँ व्यापार का अनिवार्य अंग है यह क्रियाएँ वस्तुओं के उत्पादन तथा विनिमय में आने वाली समस्याओं को दूर करनें में सहायता करतें है |

व्यापार के सहायक क्रियाओं का वर्गीकरण :   

  1. परिवहन : परिवहन व्यापार में स्थान सम्बंधित समस्याओं को दूर करने में सहायता करता है | व्यापार में वस्तुओं के उत्पादन से उपभोगताओं तक वस्तुओं को पहुँचाने में सहायक की भूमिका निभाता है | व्यापार में वस्तुओ को एक जगह से दुसरे जगह पहुचना होता है जिसमें परिवाक्हकं सहायत करता है | 
  2. बैंकिंग और वित् : किसी भी व्यवसाय को आरंभ करने के लिए धन की आवश्यकता होती है | बैंक व्यवसाय को आरंभ करने के लिए वित् सम्बंधित समस्याओं को दूर करने में सहायक की भूमिका निभाता है | व्यवसायी बैंको से वित् की व्यवस्था कर सकते है | बैंक चैको की वसूली करना , उधार देना आदि समस्याओं को दूर करती है |
  3. बीमा : व्यवसाय को विभिन्न प्रकार के जोखिमो का सामना करना पड़ता है | बीमा व्यवसाय में जोखिमो से सुरक्षा करने में सहायता करता है | बीमा व्यवसाय में होने वाली हानि की क्षतिपूर्ति करती है |
  4. भंडारण : व्यवसाय में वस्तुओ के उत्पादन से बिक्री के बीच काफी समय होता है | इसलिए उत्पादन के पश्चात् बिकने तक उसे गोदामों में सुरक्षित रखा जाता है | भंडारण व्यवसाय में संग्रहण सम्बंधित समस्याओ को दूर करता है | 
  5. विज्ञापन : व्यवसाय में विज्ञापन की महत्वपूर्ण भूमिका है | उत्पादक स्वयं प्रत्यक्ष रूप से उपभोक्ता से नहीं मिल सकता है इसलिए उत्पादक अपने पदार्थ की गुणवत्ता आदि की जानकारी उपभोगताओ को विज्ञापन द्वारा पहुंचाते है | ]

व्यवसाय में लाभ का महत्व और उसकी भूमिका :

  • लाभ व्यवसाय की आय का स्रोत है |
  • लाभ व्यवसाय की वृद्धि का प्रतिक हैं |
  • लाभ व्यवसाय के अच्छे तथा कुशल प्रबंधन के लिए आवश्यक है |
  • लाभ व्यवसाय की समाज में अच्छी प्रतिष्ठा का प्रतिक है |
  • लाभ व्यवसाय के विकास एवं फैलाव के लिए आवश्यक है |

व्यवसाय के उद्देश्य : 

  1. व्यवसाय का सबसे बड़ा तथा पहला उद्देश्य लाभ अर्जित करना है व्यवसाय को आरंभ ही लाभ कमाने के उदेश्य से किया जाता है | लाभ व्यवसाय की आय का स्रोत है |
  2. व्यवसाय का दूसरा उद्देश्य है अपने प्रतियोगियों से आगे निकलना तथा अच्छे गुणवत्ता वाले उत्पाद उपभोगताओ को उपलब्ध कराना |
  3. व्यवसाय का तीसरा मुख्य उद्देश्य अपने उत्पादों में तथा कार्य करने के तरीके में नए-नए परिवर्तन करते रहना ताकि उपभोगताओ की उत्पादों में रूचि बनी रहे |
  4. व्यवसाय का चौथा उद्देश्य उत्पादकता को बढ़ाना अर्थात् अधिक से अधिक उत्पादन क बढ़ाना | अच्छी तकनीको , उपलब्ध स्रोतों एवं संसाधनों का उचित प्रयोग करना ताकि अधिक से अधिक उत्पादन को बढाया जा सके |
  5. व्यवसाय का एक उद्देश्य वितीय तथा भौतिक संसाधनों को बढ़ाना तथा उचित प्रयोग करना है ताकि उत्पादन को ज्यादा से ज्यादा बढाया जा सके |
  6. व्यवसाय का मुख्य उद्देश्य अपने कर्मचारियों तथा प्रबंधन को कुशल करना भी है , जितना अच्छा प्रबंधन होता है वह व्यवसाय उतना विकास करता है | अपने कर्मचारियों को अच्छी सुविधाएँ प्रदान करना तथा उन्हें प्रोत्साहित करना भी है |
  7. सभी व्यवसाय का एक दायित्व समाज के प्रति भी होता है कि वह समाज में अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पाद उपलब्ध कराएँ तथा सामाजिक कार्य करे |

 

www.atpeducation.com

www.atpeducation.com

 

 

Advertisement
Page 3 of 5
Download Our Android App
Get it on Google Play
Feed Back

Roshan Class X says:

"6"

Shadab Khan Class X says:

"make fast all science pages geography "

Shivam Bajpai All Class says:

"ये पेज under construction क्युं है .plz fix this prob..."

Krishan Class X says:

"this very good website i really appreciate which provide no cost education to all medium classes"

Vimal Class XI says:

"Not able to find the content....as instructed."

Kamini Class X says:

"every chepter is imcomplete....this side is not useful"

Ashok Swami All Class says:

"10th science ka Lesson-8 ka page no.5 kab take under construction rahega please improve it."

Rishabh Gupta Class XI says:

"how can i understand difference between permutation and combination word problem"

Rishabh Gupta Class XI says:

"i want to learn parts of speech"

KASHIF ALI Class VIII says:

"Please update all the syllabus of class 8"

ATP Education

 

 

Follow us On Google+
Join Us On Facebook
Sponser's Link
Sponser's Link